World Tourism Day: Tourism and Digital Transformation

0
94
world tourism day

World Tourism Day: कब इसकी शुरुआत हुई?

world tourism day

हर साल 27 सितंबर को वर्ल्ड टूरिज्म डे बनाया जाता है। इवेंट यूनाइटेड नेशन ऑर्गेनाइजेशन  ऑर्गेनाइज कराता है और इसी के साथ साथ UNWTO भी कर आता है। इसका मुख्य कारण बस यही है कि वे चाहते हैं की पूरी दुनिया भर के रीति-रिवाज और नए रूप से लोगों से रूबरू कराया जाए। इसकी शुरुआत यूनाइटेड नेशन ने 1980 में की थी क्योंकि इसी दिन की स्टेट्यूस को वहां पर लाया गया था।

 

world tourism dayकिसी ने सच ही कहा है जीवन में यात्रा करना एक अलग ही अनुभव होता है और यह हमें बहुत भाता है। हर एक व्यक्ति को अलग अलग देश मैं कुछ न कुछ नया सीखने को मिलता है। इसलिए व्यक्ति एक बंद सीमा में अंदर रहने के बजाय आराम से नई चीजों के बारे में जानना चाहता है किसी ने सच ही कहा है कि एक अच्छा पर्यटक के पास कोई  भी फिक्स प्लान नहीं होता घूमने के लिए।

एक बार किसी महान व्यक्ति ने कहा था कि आपको साल में एक जगह ऐसी जानी चाहिए जहां पर आप कभी नहीं गए हैं। और वास्तव में यह बहुत अच्छी चीज है यदि आप ऐसा करते हैं तो आप अपने अंदर बहुत बदलाव महसूस करेंगे और अपने आप को बहुत खुशहाल पाएंगे क्योंकि दुनिया बहुत बड़ी है यदि हम इसे एक जगह से देखना शुरू कर दे तो भी हमारे जिंदगी कम पड़ जाएगी।

world tourism day

घूमने से हमारे अंदर बहुत बड़ा बदलाव आता है यदि आप दुखी हैं और आप कहीं घूमने चले गए तो आपका पूरा दिन बन जाता है और आप आगे जाकर बहुत ही खुशी महसूस करते हैं सिर्फ इसलिए क्योंकि आपको नहीं चीजे सीखने को मिलती है। जरूरी नहीं घूमने का मतलब कहीं दूर ही जाओ यदि आप कहीं पास भी ऐसी जगह जा सकते हैं जहां पहले कभी नहीं गए आपको एक अलग ही अनुभव महसूस होगा और आपको बहुत अच्छा लगेगा वहां पर जाकर।

नया थीम और नया देश

world tourism day

हर साल कोई नया थीम होता है और इस साल 2018 का थीम है टूरिज्म एंड डिजिटल ट्रांसफॉरमेशन। वर्ल्ड टूरिज्म डे का 12 सेशन था  सन 1997 में  तुर्की मैं तभी नाटक नेशंस के जनरल असेंबली ने यह डिसाइड किया था हर साल एक नई कंट्री को होस्ट बनाया जाएगा और वह पाटनर की तरीके से काम करेंगे। जब उसका 15 सेशन हुआ चाइना में 2003 को तब जनरल असेंबली  ने यह विचार किया कि 2006 में यूरोप, 2007 में साउथ एशिया, 2008 में अमेरिका, 2009 में अफ्रीका और 2011 में अरबी  देशों में मनाया जाएगा।

 

आखिर क्यों घुमा जाए?

world tourism day

एक अनुमान लगाया जा रहा है कि हर साल नए नए पर्यटक बढ़ते जा रहे हैं जो कि पिछले साल या उससे पहले नहीं  थे। पहले लोगों के सबसे घूमने का मतलब सिर्फ परिवार के साथ था कि किसी लंबी छुट्टी पर जाएं और वहां पर मजे करें लेकिन अब घूमने का मतलब पूरा बदल चुका है अब काफी लोग तो अकेले या अपने दोस्तों के साथ भी घूमने जाते हैं और यही नहीं वे बड़े बड़े पहाड़ या फिर नदिया भी तैरते हैं सब अकेले।

world tourism dayक्योंकि इसमें भी मजा है और ज्यादा ज्यादा लोग इसी को करना चाहते हैं। दुनिया भर में कहानी एडवेंचर आ चुके हैं जैसे कि आसमान से कूदना या पानी में अंदर जाना यह सारे के सारे एक्टिविटीज  पर्यटक को बहुत बातें हैं और उनको बहुत पसंद आते हैं इसलिए हर देश यही प्रयास करता है कि उनके देश में नई से नई एक्टिविटी जाए ताकि पर्यटक का ध्यान उनकी तरफ आए। पर्यटन की वजह से काफी देशों में पैसे की दिक्कत बिल्कुल नहीं होती क्योंकि उनका

मुख्य लक्ष्य पर्यटन होता है। हम अपने देश की बात कर लेते हैं कुछ स्टेट जैसे कि कश्मीर या कोई भी पहाड़ी जगह यहां पर काम मिलना बहुत मुश्किल होता है क्योंकि आकर जिंदगी बहुत ही मुश्किल होती है तो वहां पर जितनी भी कमाई होती है सरकार की उस सिर्फ और सिर्फ पर्यटक की वजह से ही होती है क्योंकि उनके पास और कोई काम का चारा नहीं होता वहां पर। दुनिया में तो काफी ऐसे भी देश है जो कि सिर्फ पर्यटन की वजह से ही चल रहे हैं और  उनकी इकोनामी इस वजह से ही   सामान्य रहती है।

By- Siddharth Vikram

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here