New Rule For ATMs : Half of The ATMs May Be Shut Down By March

0
85
new rule for atms

मार्च 2019 तक बंद हो सकती है भारत की आधे से ज्यादा एटीएम् (ATM) मशीन

आजकल के डिजिटल ज़माने में कोई भी कैश रखना पसंद नहीं करता क्योकि कैश के साथ टेंशन होने लगती है कि कही कोई चोरी न करले या हमसे ही कही गिर न जाए इसलिए हम अपने रुपयों को बैंक में जमा करा के आराम से सिर्फ एक एटीएम कार्ड के साथ घूमते है जहां भी रुपयों की ज़रूरत पड़ती है या तो एटीएम मशीन से निकाल के इस्तेमाल कर लेते है या फिर कार्ड स्विपिंग मशीन (card swiping machine) से पेमेंट कर देते है लेकिन कैसा हो अगर आपको पता चले कि आपके इलाके की एटीएम मशीन बंद हो गयी है ? जी हाँ जल्द ही देश से करीब एक लाख तेरह हज़ार एटीएम मशीन्स के बंद होने के अनुमान है।

क्यों होने जा रही है एटीएम मशीन्स बंद ?

new rule for atms
कॉन्फिडेरशन ऑफ़ एटीएम इंडस्ट्री के मुताबिक हाल ही में नोटों में कुछ बदलाव् आया है जिसके चलते एटीएम मशीन्स के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर में कुछ बदलावों की ज़रूरत है जिसका अनुमानित खर्चा करीब 3500 करोड़ रूपये है। एटीएम के कैश मैनेजमेंट स्टैंडर्ड और कैश लोडिंग सिस्टम को लेकर हाल ही में कुछ नए नियम  है जिनको अपग्रेड करने के लिए एटीएम मशीन्स के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को अपग्रेड करना जरुरी है लेकिन  कम्पनिया इस हालत में नहीं है की वो 3500 करोड़ रूपये एटीएम को नई तकनीकों से जोड़ने  लिए कर सके इसलिए कॉन्फिडेरशन ऑफ़ एटीएम इंडस्ट्री ने  देश के करीब आधे एटीएमस  को बंद करने का फैसला लिया है।

नोटबंदी के चलते नुकसान में आयी कम्पनीज इसलिए नहीं दे रही 3500 करोड़

new rule for atms
ब्राउन लेबल और वाइट लेबल जैसी दो दिग्गज एटीएम मशीन प्रदाता कंपनीयो का कहना है कि साल 2016 में हुई नोटबांदी के दौरान अचानक एटीएम मशीन्स के लगातार इस्तेमाल  कारण काफी मशीन्स ख़राब होगयी थी और  साथ ही लोगो ने मशीनो में से रुपयों की चोरी कर ली थी जिसका हर्ज़ाना कम्पनीज को भरना पड़ा था जिससे उन्हें काफी नुकसान हुआ था अब फिरसे 3500 करोड़ उन्ही मशीन्स पर खर्च करना मूर्खता है।

बैंक्स ने भी किए हाथ खड़े

हालाँकि बैंक्स भी अगर चाहे तो खर्चा करके अपनी अपनी शाखाओं की एटीएम मशीन्स अपग्रेड करवा सकती है लेकिन एक कॉन्फ्रेंस के दौरान सभी बैंक्स के CEOs ने ये साफ जाहिर किया की देश में हुए दो बड़े घोटालो और धोखाधड़ी से वे अभी तक नहीं उबर सके है और ऐसे में 3500 करोड़ रूपये इक्कठा करना नामुमकिन होगा।

अधिकतर गाँवो की एटीएम मशीन्स होगी बंद

देश में इस वक्त मौजूदा एटीएम मशीन्स लगभग 2,38000 जिसमे से करीब 1,13,000 मशीन्स को बंद करने की बात चल रही है। ज्यादातर मशीन्स गाँव देहात के इलाको में बंद की जाएगी क्योकि वहा  लोग टेक्नोलॉजी के बंद होने  से इतने प्रभावित नहीं होंगे जितने की शहरी इलाको में इसका प्रभाव पड़ेगा। इसलिए 60% मशीन्स गाँवो या ऐसे इलाको से बंद की जयेगी जहा उनका ज्यादा इस्तिमाल न होता हो।

लगेंगी फिरसे बैंको और एटीएम मशीन्स पर लम्बी लम्बी लाइन,  डगमगा सकती है अर्थव्यवस्था

new rule for atms
नोटबंदी तो याद होगी ही और साथ ही में नोटबंदी के दौरान बैंको से नए नोट निकालने और पुराने जमा करने के लिए जो लंबी लंबी कतारों में लोग जमा हुए थे वो भी आपको याद होगा ही। जल्द ही आपको इस संकट का सामना फिरसे करना पड़ सकता है क्योकि 1,13,000 एटीएम मशीन्स के बंद होने से ज़ाहिर है कि एटीएम मशीन्स की होगी कमी लेकिन लोग तो उतने ही होंगे जिसके कारण एक बार फिर व्ही सुबह से उठकर जाके लाइनो में खड़ा होना पड़ेगा साथ ही में एटीएम मशीन्स के बंद होने से लोगो के रोज़गार और देश की अर्थव्यवस्था पर असर पड़ सकता है क्योकि जो लोग एटीएम उद्योग से जुड़े है वे बेरोज़गार हो सकते है जिसके कारण देश में बेरोज़गारी बडेगी और साथ ही भारत की अर्थव्यवस्था डगमगा जाएगी।
By- Yash Garg

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here