जानिए कैसे आप अपनी शारीरिक मुद्रा को संतुलित रख सकते हैं???

0
342
How to improve body postures

How to improve body postures

रीर मुद्रा को कैसे सुधारें

  • बेहतर शारीरिक संतुलन या मुद्रा के लिए योगासन करें।
  • अपने शरीर की मुद्रा को संतुलित रखने के लिए हर जगह सही तरीके से बैठे।
  • सही तरीके से चले।
  • बैठते, सोते या चलते समय अपनी पीठ को सीधी मुद्रा में रखें।
  • नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • खान पान पर भी ध्यान दें, इससे भी मुद्रा में असर पड़ता है।

 

आइए जानते हैं यह मुद्रा होती क्या है? कैसे आप अपनी शारीरिक मुद्रा को संतुलित रख सकते हैं? कैसे पीठ की मुद्रा शारीरिक मुद्रा को खराब कर सकती है? कैसे पीठ के दर्द को हम नजर अंदाज कर देते हैं जो हमें नहीं करना चाहिए? कैसे पीठ का दर्द शारीरिक मुद्रा के संतुलन को बिगाड़ सकता है? क्या क्या उपाय है जिससे हम अपनी शारीरिक मुद्रा को संतुलित रख सकते हैं? आइए इन सब सवालों के जवाब हम संक्षेप में जानते हैं…..

 क्या है शारीरिक मुद्रा ?

 किसी व्यक्ति के शरीर को संदर्भित करने वाली मुद्रा शारीरिक मुद्रा कहलाती है। शरीर के अलग-अलग हिस्सों की मुद्राओं को अलग अलग नाम से परिभाषित किया जाता है। लेकिन यह सभी शारीरिक मुद्रा का ही हिस्सा है। अलग-अलग मुद्राओं को हम परिभाषित करते हैं जैसे अगर हाथ की मुद्रा है तो कंधे का नीचे झुकना, हाथ का चलना, हाथ से काम करना, किसी चीज का पकड़ना, यह सब हाथ की मुद्राएं हैं। अगर हम पैर की मुद्राओं की बात करें तो चलना, खड़े होना आदि पैर की मुद्राएं कहलाती है।

 

कैसे पीठ की मुद्रा शारीरिक मुद्रा को खराब कर सकती है ?

How to improve body postures

अगर आप बैठते समय अपनी पीठ को नीचे की तरफ झुका कर बैठते हैं यानी कि आप अगर सीधे नहीं बैठती हैं तो यह मुद्रा आपकी शारीरिक मुद्रा को बिगाड़ सकती है। आप सोते समय अगर पीठ की मुद्रा को संतुलित नहीं रखेंगे तो इससे भी शारीरिक मुद्रा पर असर पड़ता है। और अगर आप चलते समय झुक कर अपनी पीठ को झुका कर चलते हैं तो इससे भी शारीरिक मुद्रा खराब हो सकती है।

 

कैसे आप अपनी शारीरिक मुद्रा को संतुलित रख सकते हैं….

Back exercises for better postures

स्वस्थ शरीर और दिमाग के रखरखाव से शरीर शारीरिक मुद्राओं पर असर पड़ता है और वह अच्छी रहती है।

How to improve body postures

  • आप कहीं भी बैठे अपनी पीठ को सीधा कर कर बैठे।
  • चलते समय अपनी पीठ को सीधा कर कर चलें।
  • सोते समय अपनी पीठ की मुद्रा को सही मुद्रा में रखें जिससे कि आपके पेट में दर्द ना हो और आपका शरीर की मुद्रा भी संतुलित रहे।
  • नियमित रूप से व्यायाम करने से भी जिस मुद्रा में हम व्यायाम करते हैं उसी मुद्रा में हमारा शरीर धीरे-धीरे ढलने लग जाता है।

 

 योगासन जिससे पीठ का दर्द कम करें और शारीरिक मुद्रा को संतुलित रखें ….

How to improve body postures

कई ऐसे व्यायाम है जिन्हें आप अगर अपनी जीवनशैली में अपनाएंगे तो उससे आपका पीठ का दर्द कम ही नहीं गायब हो जाएगा। और आपकी शारीरिक मुद्रा भी एक संतुलन में बनी रहेगी। ऐसे ही कुछ योगासन के बारे में हम आपको बताएंगे, जिन्हें आप नियमित रूप से अपनी जीवनशैली में अपना सकते हैं।

  • स्क्वाट होल्ड

 स्क्वाट होल्ड में आप अपने शरीर की मांसपेशियों को सीधा करके रखें और सीधे खड़े हो जाएं। अपने हाथों को एक बराबर मुद्रा में रखें फिर अपनी एड़ियों पर जोर देते हुए कुर्सी पर बैठने वाली मुद्रा में बैठने की कोशिश करें। अब 90 सेकेंड तक ऐसे ही रहे।

इससे आप अपने शरीर को संतुलित करना सीख जाते हैं। 

How to improve body postures

  • सुपरमैन

इसमें आपको सुपरमैन की तरह उड़ने का प्रयास करना है। जैसे अपने पूरे शरीर को ढीला छोड़ दें। फिर अपने हाथ और पैर को ऊपर की तरफ उठाएं और चेहरे से ऊपर की तरफ देखें। इस मुद्रा को 10 बार नियमित रूप से करें।

  • प्लैंक

यह आसन में आप पहले जमीन पर बैठ जाएं। फिर अपने शरीर को ढीला छोड़ दें। फिर अपने हाथों और हथेली और उंगलियों के वजन पर अपने शरीर को ऊपर उठाने का प्रयास करें। इस मुद्रा से में आप जितनी देर तक अपने आप को रख पाएंगे इतनी देर तक आप अपने शरीर की मुद्रा को संतुलित रख सकते हैं।

इससे आपकी पेट की मांसपेशियां मुद्रित एवं संतुलित रहती हैं।

 

  • डबल साइड बेड

इस आसन में पहले आप सीधे खड़े हो जाए। अपने कंधों को आराम दें। फिर हल्का वजन उठाकर दाहिनी ओर झुकने का प्रयास करें। फिर सीधी मुद्रा में खड़े हो जाए। दोबारा से अब बाए हाथ से हल्का वजन उठाकर बाएं ओर झुकने का प्रयास करें। फिर से सीधे खड़े हो जाएं। इस मुद्रा को आपको कई बार नियमित रूप से करें। इससे आपके पैर और पीठ संतुलित रहते हैं।

                                                               अंजली चौहान

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here