नरेंद्र मोदी – अपने आप मे एक चलता फिरता संस्थान

0
456
happy birthday narendra modi

माननीय नरेंद्र मोदी का जन्मदिवस

Happy Birthday Narendra Modi Ji

happy birthday narendra modi

भारत माता ने समय-समय पर इस विश्व को महापुरुष दिए हैं।  आधुनिक भारत के जन्म के बाद भी ये सिलसिला जारी रहा और आज के दिन पुरे देश के लिए आदर्श बने श्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी जी का जन्म 17 सितम्बर 1950 में गुजरात के वडनगर में हुआ। मोदी जी बचपन से ही प्रभावशाली रहे थे। उनके पिता का नाम दामोदरदास मूलचंद मोदी था और उनकी माता का नाम हीराबेन मोदी था। बचपन में भी वे देशभक्त थे और सेना में काम करना चाहते थे।  वे सैनिक स्कूल में दाखिला लेना चाहते थे लेकिन घर में आर्थिक तंगी के कारण ऐसा न कर सके। सिर्फ 13 साल की उम्र में ही उनकी सगाई जशोदाबेन के साथ हो गयी और जब 18 साल के हुए तब विवाह भी हो गया।

हालाँकि उनका मेल जोल उनके साथ ज्यादा नहीं रहा। बचपन में वे अपने पिताजी के साथ वडनगर रेलवे स्टेशन पर चाय बेचा करते थे फिर बाद में अपने भाई के साथ उन्होंने बस स्टैंड के पास चाय का स्टाल खोला। उन्हें विद्यालय में वाद-विवाद प्रतियोगिताओं में भाग लेने में बहुत रूचि थी और इसमें वे अव्वल भी थे। उन्होंने युवा अवस्था की शुरुआत में ही घर छोड़कर देश भ्रमण पर जाने का फैसला किया। इस दौरान उन्होंने हिमालय पर दो सालों तक तपस्या की थी। उनके शुरुआती जीवन में स्वामी विवेकानंद  उनके लिए प्रेरणा स्रोत रहे थे। इस दौरान उन्होंने साधुओं के साथ भी समय गुज़ारा। इन सभी अनुभवों का उनके जीवन पर बहुत प्रभाव रहा था।

उन्होंने स्वामी जी के द्वारा स्थापित किये गए आश्रमों में भी समय गुज़ारा। आठ साल की उम्र में वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक दल (आरएसएस ) से अवगत हुए थे और शहर में आयोजित शाखाओं में जाना शुरू किया था। वहीँ इनकी भेंट लक्ष्मणराव इनामदार से हुई और लक्ष्मणराव उनके राजनितिक गुरु बन गए।

1971 के भारत पाकिस्तान के युद्ध के बाद वे पुरे तरीके से राष्ट्रीय स्वयंसेवक दल के प्रचारक बन गए।

happy birthday narendra modi

उन्होंने 1978 में राजनीतिशास्त्र से बी. ऐ. तथा  1983 में एम. ऐ. किया। जब इंदिरा गाँधी ने 1977 में इमरजेंसी घोषित की तब उन्होंने आरएसएस के लिए गुजरात में महत्वपूर्ण कार्य किये। इस दौरान उन्होंने अपनी किताब “संघर्ष में गुजरात” लिखी जिसमें उन्होंने इमरजेंसी में  गुजरात के हालातों के विषय में लिखा था।

1990 में उन्हें भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय चुनाव समिति के सदस्य बने। उन्होंने एल. के. आडवानी तथा मुरली मनोहर जोशी की सहायता यात्रा आयोजित की।

भारतीय जनता पार्टी की राज्य विधानसभा चुनाव में मिली जीत में उनकी बड़ी भूमिका थी। बाद में वे भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय सचिव बने। इस दौरान उन्हें नई दिल्ली में स्थानांतरण किया गया। उन्हें हिमाचल प्रदेश तथा हरियाणा में पार्टी की जिम्मेदारियां मिलीं। उन्होंने 1998 में गुजरात के विधानसभा चुनाव में केशुभाई पटेल को पूरा समर्थन दिलवाया।  इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

केशुभाई पटेल के गिरते स्वास्थ्य और 2001 में भुज में आए भूकंप को जिस तरीके से केशुभाई के प्रशासन ने संभाला उससे पार्टी को थोड़ा नुकसान पहुँचा था। ऐसे में पार्टी ने उन्हें ज़िम्मेदारी दी और वे 3 अक्टूबर 2001  में केशुभाई के स्थान पर गुजरात के मुख्यमंत्री बने।

वे 2001 से 2014 तक वे गुजरात के मुख्यमंत्री बने।

और आज वे भारत के 14 वें प्रधानमंत्री हैं। वे दुनिया के तीसरे सबसे मशहूर राजनेता हैं। उनके द्वारा चलाईं गयी प्रमुख योजनाएं जैसे “स्वच्छ भारत” तथा “प्रधानमंत्री जनधन योजनाओं ने भारतीय समाज में सुधार लाएं हैं। उनके द्वारा करी गयी नोटबंदी ने देश की अर्थव्यवस्था में सुधार लाए । अंत में हम उन्हें जन्मदिन की शुभकामनाएं देना चाहेंगे तथा कामना करेंगे की अच्छे दिन जारीं रहें ।

 

By- Jatin Agrawal

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here