10 Simple and Easy Techniques To Maintain Health After Festivals

0
149
10 Simple and Easy Techniques To Maintain Health After Festivals

खूब संवारा घर अब संवारिए सेहत

10 simple and easy techniques to maintain health after festivals 

त्योहारों और शादियों के मौसम में अमूमन हम सेहत की चिंता करना भूल जाते हैं। खुशियां, मिठाई, खानपान, मौज मस्ती यही सब तो है त्योहारों का सार।  पर, इन सब के बाद पूरा शरीर बुरी तरह से थक चुका होता है।  यह थकावट सिर्फ बहुत ज्यादा खानपान से ही जुडी हुई नहीं होती बल्कि ढेर सारे लोगों से मिलने-जुलने और प्रदुषण आदि के कारण भी होती है। जब दशहरा और दिवाली जैसे त्यौहार हों तो खुद पर लगाम लगाना उचित विकल्प नहीं है.

पर, चिंता करने की बात नहीं है। सेहत की यह स्थिति स्थाई नहीं होती है।  एक बार फिर से सही खानपान, व्यायाम और डेटोक्सिफिकेशन की मदद से आप सेहत की ढीली तार को दुरुस्त कर सकती हैं।  शरीर के भीतर का टॉक्सिन्स भी चेहरे पर कील-मुंहासों के रूप में दिखता है। इन संकेतों का साफ़ मतलब है कि शरीर से साफ़ करने यानी डेटोक्सिफिकेशन की जरुरत है। अब तो यह बहाना भी नहीं चलेगा।

10 Simple and Easy Techniques To Maintain Health After Festivals

आइये जानें कैसे त्योहारों के बाद सेहत को वापस पटरी पर लाएं

क्या है डिटॉक्सिफिकेशन?

अक्सर त्योहारों के बाद बहुत ज्यादा थकावट महसूस होती है। इस थकावट का कारण सिर्फ त्योहारों के दौरान आपका बहुत ज्यादा काम करना नहीं होता, बल्कि जरुरत से ज्यादा तला-भुना और मीठे का सेवन भी होता है। ये तैलिये खाद्य पदार्थ पाचन प्रक्रिया को भी प्राभवित करते हैं, साथ ही इनका असर चेहरे पर भी नज़र आने लगता है। इन परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए आपको अपने शरीर को भीतर से साफ़ करने यानी डिटॉक्स करने की जरुरत है। डिटॉक्स का अर्थ है जमा होने वाले हानिकारक तत्वों, गैस, अम्ल आदि को बाहर निकालना, जिससे शरीर फिर पहले जैसा काम करने लगे। आप घर बैठे ही शरीर को डिटॉक्स कर सकते हैं।

ये है डेटोक्सीफिकेशन के संकेत

10 simple and easy techniques to maintain health after festivals 

  • पेट में गैस, अपच, डकार, जलन, दर्द, उल्टी-दस्त आदि लक्षण बताते हैं की शरीर में जो कचरा बन रहा है वह बाहर नहीं निकल रहा है।
  • नींद पूरी नहीं हो पा रही है तो इसका मतलब है कि आपको डिटॉक्स की जरुरत है।
  • अगर आपको आलस आ रहा है और दिन भर बेमन से काम करना पड़ रहा है तो भी आपको डिटॉक्स की जरूरत है।
  • अगर आप तनाव में हैं तो भी आपको डिटॉक्स की जरुरत है। तनाव शरीर की सामान्य प्रक्रियाओं को प्रभावित करके विषैले तत्वों का जमाव बढ़ाता है।

खूब पिएँ तरल पदार्थ

10 simple and easy techniques to maintain health after festivals 

जब भी हमारा पेट खराब होता है तो सबसे पहले ध्यान पानी की ओर जाता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि पानी शरीर को भीतर से साफ़ करने के साथ ऊर्जा भी देता है। जितना हो सके अपने आहार में पानी, फ्रेश जूस, सब्जी का रस और प्रोटीन शेक आदि को शामिल करें। यह शरीर से जहरीले तत्वों को बाहर निकालकर शरीर को साफ़ करने में मदद करेगा। पुरुषों को हर दिन औसतन ३ लीटर और महिलाओं को २.३ लीटर पानी पीना चाहिए। पानी शरीर के सभी महत्वपूर्ण अंगों में इक्खट्ठा टॉक्सिन्स को बाहर निकालने और पोषक तत्वों को कोशिकाओं तक पहुंचाने में मदद करता है।

फाइबर से दोस्ती जरूरी

10 simple and easy techniques to maintain health after festivals 

दिवाली में आपने जैसे भी खाना खाया हो, उसके दुष्प्रभाव से शरीर को उबारने के लिए और पेट की अंदरूनी और अच्छे तरीके से सफाई के लिए अपने आहार में फाइबर की मात्रा को बढ़ाएं। इसके लिए अपने आहार में फाइबर की मात्रा को बढ़ाएं। इसके लिए अपने आहार में हरी पत्तेदार सब्जियों और मौसमी फलों को शामिल करें। शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए एक गिलास पानी में दो बड़े चम्मच चिया के बीज मिला कर पिएँ।

जमकर बहाएं पसीना

योग विशेषज्ञ कहते हैं कि त्योहारों के दौरान भले ही आपको व्यायाम का मौक़ा न मिला हो, पर त्योहारों के बाद जमकर व्यायाम करें। हर सुबह नियमित रूप से आप कुछ साधारण योगासन करके भी शरीर के विषैले तत्वों से छुटकारा पा सकती है।

इन्हें भी अपनाएं

 

  • शरीर कि भीतरी सफाई के लिए आपको बहुत ज्यादा मेहनत करने की जरुरत नहीं है। अपनी जीवनशैली में बेहद छोटे-छोटे बदलावों की मदद से भी आप फिर से सेहत से दोस्ती कर सकती हैं।
  • गुनगुने पानी में नीबू का रास और शहद मिलाकर हर सुबह खाली पेट पाई। इस ड्रिंक से पांचन तंत्र दुरुस्त रहता है और कब्ज की समस्या नहीं होती है। साथ ही नीबू लिवर को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करता है, जिससे गरिष्ठ खाद्य पदार्थों को पचाना पाचन तंत्र के लिए आसान हो जाता है। वहीं दूसरी ओर नीबू पेट के किसी भी तरह के इन्फेक्शन को दूर भगाने में मददगार होता है।
  • अच्छी सेहत के लिए अच्छी नींद जरूरी है. हर दिन आठ घंटे जरूर सोएं. नींद पूरी होगी तो विषैले पदार्थ भी शरीर में इकट्ठा नहीं होंगे।
  • अपने शरीर का अच्छे से मसाज करवाएं। इससे भी विषैले तत्वों से निजात मिलेगी।
  • त्वचा कुम्हलाई हुई लग रहो हो तो अंडा या हरी सब्जियों की मात्रा अपनी डाइट में बड़ा दें। खासतौर पर विटामिन-बी से भरपूर सब्जियों को अपनी डाइट में शामिल करें।

~ स्टैफी ब्रिज़ावार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here