10 MOST POINTLESS RULES IN SCHOOL THAT EVERY STUDENT HATES

0
179

10 MOST POINTLESS RULES IN SCHOOL

1. SCHOOL UNIFORM REQUIRED

 
स्कूल न जाने का पहला कारण जो सामने आता  है वो है कि कुछ बच्चों को स्कूल ड्रेस पंसद नहीं होती और अगर हर दिन एक ही कलर और डिज़ाइन के कपडे आपको भी पहनाये जाये तो शायद आपको भी यह पसंद न आए लेकिन स्कूल्स में यह ड्रेस पहन्ना जरुरी है क्युकि बिना ड्रेस के स्टूडेंट को स्कूल में नहीं बैठने दिया जाएगा और स्कूल ड्रेस पहनाने का मुख्य कारण यह दर्शाना है की स्कूल में सब  बराबर है न कोई अमीर न कोई गरीब।

2.  NO BATHROOM BREAKS

एक बार अगर टीचर पढ़ाने बैठ जाए तो किसी भी स्टूडेंट को क्लास से बाहर नहीं निकलने देते। इसलिए स्टूडेंट्स का क्लास से बहार निकलने का सबसे आसान बहाना होता है बाथरूम जाना लेकिन टीचर्स स्टूडेंट्स को बाथरूम जाने की परमिशन भी नहीं देती क्युकी उन्हें लगता है बच्चे बाहर जाके सिर्फ टाइमपास करेंगे। हालाँकि कभी कभी तो स्टूडेंट्स को सच में बाथरूम जाना होता है लेकिन टीचर यही सोच के उन्हें जाने नहीं देती।

3. NO ELECTRONICS

हमारे स्कूल्स का अजीब रूल है की स्टूडेंट्स स्कूल में कोई भी इलेक्ट्रॉनिक गैजेट जैसे की वीडियो गेम और मोबाइल फ़ोन्स नहीं ले जा सकते क्युकी टीचर्स के अनुसार अगर बच्चे स्कूल में मोबाइल जैसे गैजेट्स लाएँगे तो वह पढ़ेंगे नहीं लेकिन स्टूडेंट्स का मानना है की वह मोबाइल पर ब्रेक्स में टाइमपास करके सिर्फ फ्रेश होना चाहते है।

4. NOT ALLOWED TO CHOOSE OWN SEAT

स्कूलिंग का सबसे बड़ा पॉइंटलेस रूल जो किसी स्टूडेंट को पसंद नहीं होता वह है अपनी मनचाही सीट पर न बैठ  पाना। हर स्टूडेंट अपने फ्रेंड्स के साथ ग्रुप में बैठना पसंद करता है लेकिन टीचर्स उन्हें अलग अलग कर देते  है क्युकी टीचर्स को लगता है की बच्चे पढ़ने की जगह अपने दोस्तों के साथ बाते करेंगे और उनकी पढ़ाई छूट जाएगी।

5. NO CHEWING GUM

ये रूल इसलिए बनाया गया है क्युकी बच्चे च्युइंग गम खा के कही भी थूक देते है नहीं तो टेबल के निचे चुपका  देते है और अगर बच्चे किसी टीचर को पसंद न करते हो तो टीचर के बालो में या उनकी चेयर पर च्युइंग गम चुपके देते है और शायद इसी वजह से  हर स्कूल द्वारा यह रूल बनाया गया है।

6. MUST DO HOMEWORK

सात से आठ घंटे स्कूल में बिताने के बाद, तीन-चार घंटे टूशन क्लासेस में, दो-तीन घंटे स्पोर्ट्स खेलने के बाद किसका मन करेगा होमवर्क करने का ? स्टूडेंट्स का स्कूल्स से सीधा सवाल है की हम 8 घंटे बोरिंग पीरियड्स में गुजारते है तो क्या हर पीरियड में से थोड़ा थोड़ा टाइम बचाकर हमे स्कूल में ही होमवर्क करने का टाइम दे दिया जाए ? लेकिन किसी भी स्कूल में एसा नहीं होता और हम स्टूडेंट्स पढ़ाई के बोझ तले दब जाते है और फिर हमारी पढ़ने की इच्छा नहीं करती और अगर होमवर्क न करे तो मिलती है एक सख्त पनिशमेंट।

7. NO TALKING

बहुत खिजाऊ लगता है जब टीचर  बोलती है की- “स्टॉप टॉकिंग” और बच्चे सोचते है की हम तो बात करेंगे हमे रोक के दिखाओ। हालाँकि बात करना और शोर मचाना दो अलग बाते है लेकिन इन टीचर्स को कोन समझाए !!!!

8. NO SELF DEFENSE AGAINST BULLIES

10 most pointless rules in school
स्कूल हमे बोलता है की किसी पर भी हाथ न छोड़े। एक टीचर ने स्टूडेंट को इसलिए पनिशमेंट दी क्युकी उसने अपने बुली को लात मारी थी। एक  तरफ तो टीचर्स बोलते है की किसी से डरो मत गलत को मत सहो और दूसरी ओर खुद को बचाने के लिए किसी पर हाथ छोड़ने से भी मन करते है।

9. NO LONG HAIRS

10 most pointless rules in school
लड़को को साफ साफ कह दिया जाता है कि अगर लम्बे बाल हुए तो स्कूल में नहीं घुसने दिया जाएगा या चोटी बना कर पुरे स्कूल में घुमाया जाएगा तो स्टूडेंट्स सोचते है की एसा करने से क्या हो जयगा ? बाल छोटे करवा कर हमारी शैतानियों को तो नहीं बंद करवा सकते न।

10. IF THE STUDENT DOESN’T HAVE LUNCH MONEY IN THERE ACCOUNTS, THE SCHOOL HAS THE RIGHT TO DENY THEM FOOD

10 most pointless rules in school
स्टूडेंट्स के नज़रिये से यह प्राइवेट स्कूल का बहुत  बेकार रूल है क्युकी ऐसा भी हो सकता है की कुछ बच्चे इतने गरीब हो की उनका खाने का साधन सिर्फ स्कूल हो। स्टूडेंट्स के मुताबिक यह सरासर चाइल्ड एब्यूज है।

BY- YASH GARG

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here