रिलायंस इंडस्ट्रीज विश्व की सबसे बड़ी तेल शोधन शाला की संचालक

1
541
विश्व की सबसे बड़ी तेल शोधन शाला

विश्व की सबसे बड़ी तेल शोधन शाला के संचालक रिलायंस इंडस्ट्रीज

विश्व की सबसे बड़ी तेल शोधन शाला के संचालक रिलायंस इंडस्ट्रीज है। इस समय दुनिया की सबसे बड़ी तेल रिफाइनरी भारत में स्थित है। भारत में गुजरात के जामनगर क्षेत्र में बुनियादी स्तर की सबसे बड़ी पेट्रोलियम रिफाइनरी रिलायंस इंडस्ट्रीज स्थित है।विश्व की सबसे बड़ी तेल शोधन शाला

 

तेल रिफाइनरी के संचालक मुकेश अंबानी

  • जामनगर क्षेत्र में स्थित तेल रिफाइनरी, विश्व की सबसे बड़ी तेल रिफाइनरी है। जिस का संचालन रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन, मैनेजिंग डायरेक्टर और सबसे बड़े शेयर धारक मुकेश अंबानी के द्वारा किया गया है। मुकेश अंबानी देश के सबसे बड़े अमीर बिजनेसमैन हैं। मुकेश अंबानी ने 1981 में रिलायंस इंडस्ट्रीज का काम संभाला और इसे एक नए मुकाम तक पहुंचाया है।
  • शोधन शाला आधुनिक व प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर है।
  • 25 दिसंबर 2008 को रिलायंस इंडस्ट्रीज पेट्रोलियम लिमिटेड (आरपीएल) की शुरु होने की घोषणा की गई थी।
  • इस रिफाइनरी की आधुनिक और प्राकृतिक सुंदरता दोनों ही भरपूर है।
  • रिफाइनरी में शिव मंदिर, खूबसूरत पार्क, स्विमिंग पूल व क्रिकेट ग्राउंड तक की आधुनिक सुविधाएं मौजूद है।

शोधन शाला की स्थापना….

विश्व की सबसे बड़ी तेल शोधन शाला

विश्व की सबसे बड़ी तेल शोधन शाला की स्थापना के लिए एक बहुत बड़ा समझौता हुआ। यह समझौता सार्वजनिक क्षेत्र की 3 तेल विपणन कंपनियों- इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम के द्वारा हस्ताक्षरित किया गया। इस रिफाइनरी की क्षमता 33 लाख टन सालाना है। इस रिफाइनरी को मान्यता 14 जुलाई 1999 को प्राप्त हुई। इसकी क्षमता  6,68,000 बैरल प्रतिदिन थी, जो बढ़कर 1,240,000 बैरल प्रतिदिन हो गई है।

 

जामनगर रिफाइनरी

 जामनगर शोधन शाला का स्थान

 देश                   भारत

राज्य                 गुजरात

जिला                 जामनगर

निर्देशांक              22डिग्री 20’53”N

69डिग्री 58’2”E

मालिक               रिलायंस इंडस्ट्रीज

प्रमाणित              14 जुलाई 1999

क्षमता                1,240,000 बैरल

प्रतिदिन

 

  • दिसंबर 2008 को रिलायंस इंडस्ट्रीज के द्वारा भारत में गुजरात के जामनगर क्षेत्र में विश्व की सबसे बड़ी तेल शोधन शाला स्थापित की जाएगी एसी घोषणा की गई। 14 जुलाई 1999 को इसकी स्थापना हुई। इसकी स्थापना के बाद 1,240,0000 बैरल प्रतिदिन की क्षमता के साथ ही यह जामनगर क्षेत्र विश्व का सबसे बड़ा रिफाइनरी हब बन गया। ऐसा रिफाइनरी हब विश्व में इस क्षेत्र के अलावा कहीं नहीं है।

 

2013 का सर्वेक्षण

2013 के सर्वेक्षण के मुताबिक, रिफाइनरी में भरपूर सुविधाएं हैं। इस रिफाइनरी में हवाई अड्डा, 2,500श्रमिकों के रहने की व्यवस्था, उनके घर आदि की भरपूर सुविधाएं हैं। अगर हम देखें तो इस रिफाइनरी का जो क्षेत्रफल है वह मुंबई और लंदन के क्षेत्रफल का एक तिहाई होगा। इस रिफाइनरी में जितने पाइप इस्तेमाल किए गए हैं अगर उन्हें निकाल कर एक दूसरे से जोडा जाए, तो हम भारत को नॉर्थ से साउथ तक जोड़ सकते है।

 

अन्य रिफाइनरी होगी स्थापित

जामनगर क्षेत्र में ही रिलायंस के द्वारा अन्य एक रिफाइनरी और शुरू की जाएगी। जो विश्व में छठे स्थान पर आएगी। इस रिफाइनरी की पहले से स्थापित जामनगर पेट्रोलियम रिफाइनरी से जुड़ने के बाद जामनगर का क्षेत्र विश्व का सबसे बड़ा “रिफाइनरी हब” बन जाएगा।

 

 

                                   – अंजली चौहान

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here