एक नयी शुरुवात – कविता

1
320
एक नयी शुरुवात

एक   नयी   शुरुवात

“ये एक छोटी सी कोशिश है, तुम्हें सब कुछ बताने की,

ये एक छोटी सी कोशिश है तुम्हें अपना बनाने की,
मेरे कुछ फर्ज़ हैं, मेरे वतन के शान की खातिर,
ये एक छोटी सी कोशिश है वही फर्ज़ आज़माने की.”

                                 अतनु चटर्जी

                                   ” मीत “

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here